teelu-rauteli-pension shaadi-anudan-yojana -->
कोविड-19 संक्रमण को फैलने से रोकें            दो गज की दूरी, सुरक्षा हेतु है जरूरी,            मास्क व सामाजिक दूरी को बनाकर अपनी ढाल, देश जीतेगा हर हाल

Hit Counter 0006065088 Since: 15-08-2014

 

कार्यक्रम क्रियान्वयन विभाग, उत्तराखण्ड शासन द्वारा तैयार की गयी

’’मेरी योजना’’ नामक पुस्तक

 

समाज कल्याण विभाग, उत्तराखण्ड

की आधिकारिक वेबसाइट में आपका स्वागत है।


        भारत के संविधान के अनुच्छेद 46 के प्राविधानों के आलोक में उत्तराखण्ड सरकार समाज के सर्वाधिक निर्बल वर्गों यथा अनुसूचित जाति, निराश्रित वृद्ध एवं असहाय लोगों के समग्र उत्थान हेतु कृत संकल्प है।

       देवभूमि 'उत्तराखंड राज्य मे 2011 की जनगणना के आधार पर साक्षरता का सकल प्रतिशत 79.60,जिनमे पुरुषो का प्रतिशत 83.30.तथा महिलाओ का प्रतिशत 70.70 है। वर्ष 2011 की जनगणना के आधार पर राज्य की कुल जनसंख्या 1,00,86,292 में से अनुसूचित जाति की जनसंख्या 18,92,516 तथा अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या 2,91,903 हैं। प्रदेश की कुल जनसंख्या में अनुसूचित जातियों की जनसंख्या 19 प्रतिशत है तथा अनुसूचित जनजातियों की जनसंख्या 4 प्रतिशत है। आबादी के इस शोषित एवं उपेक्षित वर्ग के सर्वांगीण विकास के बिना प्रदेश का विकास भी सम्भव नहीं है। विकास के इस मुख्य बिन्दु को ध्यान में रखते हुए ही समाज कल्याण विभाग की स्थापना की गयी है।


Covid-19